आँखों ने हाल कह दिया होंट न फिर हिला सके / हकीम ‘नासिर’

आँखों ने हाल कह दिया होंट न फिर हिला सके
दिल में हज़ार ज़ख्म थे जो न उन्हें दिखा सके

घर में जो इक चराग़ था तुम ने उसे बुझा दिया
कोई कभी चराग़ हम घर में न फिर जला सके

शिकवा नहीं है अर्ज़ है मुमकिन अगर हो आप से
दीजे मुझ को ग़म जरूर दिल जो मिरा उठा सके

वक़्त क़रीब आ गया हाल अजीब हो गया
ऐसे में तेरा नाम हम फिर भी न लब पे ला सके

उस ने भुला के आप को नजरों से भी गिरा दिया
‘नासिर’-ए-ख़स्ता-हाल फिर क्यूँ न उसे भुला सके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *