Dilawar Figar Archive

ज़लील हो के तो जन्नत से मैं नहीं आया / दिलावर ‘फ़िगार’

ज़लील हो के तो जन्नत से मैं नहीं आया ख़ुदा ने भेजा है ज़िल्लत से मैं नहीं आया मैं उस इलाक़ा से आया हूँ है जो मर्दुम-ख़ेज़ दिलाई लामा के तिब्बत से मैं नहीं आया मुशाइरे में सुनूँ कैसे सुब्ह …

ज़हर बीमार को मुर्दे को दवा दी जाए / दिलावर ‘फ़िगार’

ज़हर बीमार को मुर्दे को दवा दी जाए है यही रस्म तो ये रस्म उठा दी जाए वस्ल की रात जो महबूब कहे गुड नाईट क़ाइदा ये है के इंग्लिश में दुआ दी जाए आज जलसे हैं बहुत शर में …

या रब मेरे नसीब में अक्ल-ए-हलाल हो / दिलावर ‘फ़िगार’

या रब मेरे नसीब में अक्ल-ए-हलाल हो खाने को क़ोरमा हो खिलाने को दाल हो ले कर बरात कौन सुपर हाईवे पे जाए ऐसी भी क्या ख़ुशी के सड़क पर विसाल हो जल्दी में मुँह से लफ़्ज़ जमालो निकल गया …

वो शख़्स कभी जिस ने मेरा घर नहीं देखा / दिलावर ‘फ़िगार’

वो शख़्स कभी जिस ने मेरा घर नहीं देखा उस शख़्स को मैं ने कभी घर पर नहीं देखा क्या देखोगे हाल-ए-दिल-बर्बाद के तुम ने कर्फ़्यू में मेरे शहर का मंज़र नहीं देखा जाँ देने को पहुँचे थे सभी तेरी …

उट्ठी नहीं है शहर से रस्म-ए-वफा अभी / दिलावर ‘फ़िगार’

उट्ठी नहीं है शहर से रस्म-ए-वफा अभी बज़्म-ए-सुख़न के सद्र हैं हाशिम रज़ा अभी साहब ये चाहते हैं मैं हर हुक्म पर कहूँ बेहतर दुरूस्त ख़ूब मुनासिब बजा अभी उस दर पे मुझ को देख के दर-बाँ ने ये कहा …

शोर से बच्चों के घबराते हैं घर पर और हम / दिलावर ‘फ़िगार’

शोर से बच्चों के घबराते हैं घर पर और हम वरना ख़ुद ही सोचिए साहब के दफ़्तर और हम तू तो घर में सो रहा है यार तुझ को क्या ख़बर गेट पर ज़ख्मी पड़े हैं गेट-कीपर और हम है …

शादी में ख़त में जो ख़ला याद आ गया / दिलावर ‘फ़िगार’

शादी में ख़त में जो ख़ला याद आ गया बिल्कुल ग़लत लिखा था पता याद आ गया जूते के इंतिख़ाब को मस्जिद में जब गए वो जूतियाँ पडीं के ख़ुदा याद आ गया उस शोख़ के वलीमे में खा कर …

शाएर से शेर सुनिए तो मिस्रा उठाइए / दिलावर ‘फ़िगार’

शाएर से शेर सुनिए तो मिस्रा उठाइए इक बार अगर न उठे दोबारा उठाइए कोई किसी का लाश उठाता नहीं यहाँ अब ख़ुद ही अपना अपना जनाज़ा उठाइए अग़वा ही करना था तो कोई कम थे लख-पति किस ने कहा …

कल चौदहवीं की रात थी आबाद था कमरा तेरा / दिलावर ‘फ़िगार’

कल चौदहवीं की रात थी आबाद था कमरा तेरा होती रही दिन-ताक-दिन बजता रहा तबला तेरा शौहर शनासा आशना हम-साया आशिक़ नामा-बर हाज़िर था तेरी बज़्म में हर चाहने वाला तेरा आशिक़ है जितने दीदा-वर तू सब का मंजूर-ए-नज़र नत्था …

हुस्न पर ऐतबार हद कर दी / दिलावर ‘फ़िगार’

हुस्न पर ऐतबार हद कर दी आप ने भी ‘फिगार’ हद कर दी आदमी शाहकार-ए-फितरत है मेरे परवर-दिगार हद कर दी शाम-ए-ग़म सुब्ह-ए-हश्र तक पहुँची ऐ शब-ए-इंतिज़ार हद कर दी एक शादी तो ठीक है लेकिन एक दो तीन चार …