Agneya Archive

चयन / आग्नेय

चुन नहीं सका अभी तक जीवन और मृत्यु के बीच उसके आगमन से लगता था वह सम्पूर्ण जीवन है वह जीवन का आनन्द है उसका आह्लाद है जीवन और मृत्यु के बीच समय ने बनाना चाहा शाश्वत प्रेम का सेतु …

प्रतिध्वनि / आग्नेय

देखना एक दिन इस तरह चला जाऊंगा ढूंढोगी तो दिखूंगा नहीं लौटता रहा हूँ बार-बार प्रतिध्वनि बनकर तुम्हारे जीवन में देखना एक दिन इस तरह चला जाऊंगा लौट नहीं पाऊंगा प्रतिध्वनि बनकर तुम्हारे जीवन में।

प्रस्थान / आग्नेय

तुम्हें आख़िरकार देख रहा हूँ तुम्हारी आँखों में गुज़रे वक़्त के आँसू हैं मैं तुम्हें हमेशा के लिए छोड़कर जाने वाला हूँ यकायक देखता हूँ तुम्हारे पीछे खड़ी एक दूसरी स्त्री को जो लगभग तुम्हारी जैसी है मुझ से कह …

मरण / आग्नेय

कुछ लोग जीते रहते हैं आगे के समय में मर जाने के लिए अब तक मैं कैसे जीता रहा हूँ जब पिछले समय में मर चुका हूँ कई-कई बार जिससे तुम अब मिलती हो वह मैं नहीं मेरा प्रेत है …

आखेट / आग्नेय

तुम उस परिन्दे की तरह कब तक डैने फड़फड़ाओगे जिसकी गर्दन पर रखा हुआ है चाहत का चाकू उड़ान भरने से पहले ही तुमने खो दिए हैं अपने पंख प्यास बुझने के पहले ही विष पी लिया अमृत पान के …

सिर्फ़ प्रतीक्षा / आग्नेय

कहीं कोई सूखा पेड़ फिर हरा हो गया। कहीं कोई बादलों पर फिर इन्द्रधनुष लिख गया। कहीं कोई शाम का सूरज फिर डूब गया। हम भुतही पुलियों पर पतलूनों की जेबों में बादल, इन्द्रधनुष, डूबते सूरज भरे किसकी प्रतीक्षा करते …

मेरा घर / आग्नेय

यह घर जो मेरा घर है मेरे लिए अपमान का घर हो गया है इसकी हर चीज़ जो मेरे लिए लाई गई अचानक मुझसे ही घृणारत है। इस अपमान के घर को अब मुझे छोड़कर जाना ही होगा रेत का …

डसने के पहले / आग्नेय

यद्यपि उसने डसने से पहले कई रंग बदले वह गिरगिट नहीं था बदलते रंगों का यह परिवर्तन सिर्फ़ प्रकृति की माया नहीं थी उसकी आत्मा भी भूरी मटमैली और काली थी रंग बदलने वाली उसकी चमड़ी की तरह दरअसल वह …

नमक / आग्नेय

उसने कहा : तुम पृथ्वी का नमक बनो वह हाड़-माँस का पुतला बना रहा किसी ने सुई की नोंक चुभा दी करता रहा वह अरण्य-रुदन काल-रात्रि के भय से। किसी ने गुदगुदा दिया खिलखिलता रहा नंदन-वन जैसा। कभी किसी ने …

दीमक-समय / आग्नेय

मैं दुधारी तलवार के लिए खड़ा हूँ समय के खिलाफ़ पंख वाले चींटे के पास जितना समय है उतना ही समय है दीमक-समय जीवन का सब कुछ चाट जाएगा गिद्ध-समय शरीर के सारे अंग भकोस लेगा दुधारी तलवार के लिए …