Vasant Tripathi Archive

एक बीती हुई रात को याद करते हुए / वसंत त्रिपाठी

रात तुम लौट गई चुपचाप मुझे अकेला, निस्संग छोड़ कर भर कर प्यार की कई-कई स्मृतियाँ तुममें हिचकोले खाता हुआ मैंने चूमा पत्नी का माथा होंठों पर एक भरपूर चुम्बन अंधेरे में टटोलते हुए किया समूचे शरीर का स्पर्श रात, …

सेल्फ़ पोर्ट्रेट / वसंत त्रिपाठी

यह जो कटा-फटा-सा कच्चा-कच्चा और मासूम चेहरा है उसे ज़माने की भट्ठी ने ख़ूब-ख़ूब तपाया है केवल आरामशीन नहीं चली लेकिन हड्डियों और दिल को ठंड ने अमरूद की फाँकों-सा चीर दिया है असमय इस चेहरे से रुलाई फूटती है …