Shakeela Bano Archive

जो शख़्स मुद्दतों मिरे शैदाइयों में था / शकीला बानो

जो शख़्स मुद्दतों मिरे शैदाइयों में था आफ़त के वक़्त वो भी तमाशाइयों में था उस का इलाज कोई मसीहा न कर सका जो ज़ख़्म मेरी रूह की गहराइयों में था वो थे बहुत क़रीब तो थी गर्मी-ए-हयात शोला हुजूम-ए-शौक़ …

दस्त-ए-क़ातिल में ये शमशीर कहाँ से आई / शकीला बानो

दस्त-ए-क़ातिल में ये शमशीर कहाँ से आई नाज़ करती मिरी तक़दीर कहाँ से आई चाँदनी सीने में उतरी ही चली जाती है चाँद में आप की तस्वीर कहाँ से आई अपनी पल्कों पे सजा लाई है किस के जल्वे ज़िंदगी …