Other Poets Archive

तुमको देखा तो ये ख़याल आया

  तुमको देखा तो ये ख़याल आया ज़िन्दगी धूप तुम घना साया आज फिर दिल ने एक तमन्ना की आज फिर दिल को हमने समझाया तुम चले जाओगे तो सोचेंगे हमने क्या खोया, हमने क्या पाया हम जिसे गुनगुना नहीं …

प्यार मुझसे जो किया तुमने

प्यार मुझसे जो किया तुमने तो क्या पाओगी मेरे हालात की आंधी में बिखर जाओगी रंज और दर्द की बस्ती का मैं बाशिन्दा हूँ ये तो बस मैं हूँ के इस हाल में भी ज़िन्दा हूँ ख़्वाब क्यूँ देखूँ वो …

सो गया ये जहाँ

सो गया, ये जहाँ, सो गया आसमां सो गयीं हैं सारी मंज़िलें ,सो गया है रस्ता रात आई तो वो जिनके घर थे, वो घर को गये, सो गये रात आई तो हम जैसे आवारा फिर निकले, राहों में और …

वक़्त

ये वक़्त क्या है? ये क्या है आख़िर कि जो मुसलसल   गुज़र रहा है ये जब न गुज़रा था, तब कहाँ था कहीं तो होगा गुज़र गया है तो अब कहाँ है कहीं तो होगा कहाँ से आया किधर गया …

पुराने शहरों के मंज़र निकलने लगते हैं / राहत इन्दौरी

पुराने शहरों के मंज़र निकलने लगते हैं ज़मीं जहाँ भी खुले घर निकलने लगते हैं मैं खोलता हूँ सदफ़ मोतियों के चक्कर में मगर यहाँ भी समन्दर निकलने लगते हैं हसीन लगते हैं जाड़ों में सुबह के मंज़र सितारे धूप …

हाथ उठाए हैं मगर लब पे दुआ कोई नहीं / फ़राज़

हाथ उठाए हैं मगर लब पे दुआ कोई नहीं की इबादत भी तो वो जिस की जज़ा  कोई नहीं ये भी वक़्त आना था अब तू गोश-बर- आवाज़  है और मेरे बरबते-दिल  में सदा  कोई नहीं आ के अब तस्लीम …