Hilal Farid Archive

आँसू तो कोई आँख में लाया नहीं हूँ मैं / हिलाल फ़रीद

आँसू तो कोई आँख में लाया नहीं हूँ मैं जैसा मगर लगा तुम्हें वैसा नहीं हूँ मैं अब मुब्तला-ए-इश्क़ ज़्यादा नहीं हूँ मैं कहते हो तुम यही तो फिर अच्छा नहीं हूँ मैं ख़ूबी न हो कोई मगर इतना तो …

आँखों में वो ख़्वाब नहीं बसते, पहला सा वो होल नही होता / हिलाल फ़रीद

आँखों में वो ख़्वाब नहीं बसते, पहला सा वो होल नही होता अब फ़स्ल-ए-बहार नहीं आती और रंज ओ मलाल नहीं होता इस अक़्ल की मारी नगरी में कभी पानी आग नहीं बनता यहाँ इश्क़ भी लोग नहीं करते, यहाँ …