स्वप्न-शेष / भवानीप्रसाद मिश्र

सपनों का क्या करो
कहाँ तक मरो
इनके पीछे

कहाँ-कहाँ तक
खिंचो
इनके खींचे

कई बार लगता है
लो
यह आ गया हाथ में

आँख खोलता हूँ
तो बदल जाता है दिन
रात में !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *