सिर्फ़ दो / भवानीप्रसाद मिश्र

होने को
सिर्फ़ दो हैं हम

मगर
कम नहीं होते दो

जब चारों तरफ़
कोई और न हो !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *