मित्रता और पवित्रता / भवानीप्रसाद मिश्र

आडम्बर में
समाप्त न होने पाए
पवित्रता

और समाप्त न होने पाए
मित्रता
शिष्टाचार में

सम्भावना है
इतना-भर
अवधान-पूर्वक

प्राण-पूर्वक सहेजना है
मित्रता और
पवित्रता को !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *