बात / अशोक चक्रधर

बात होनी चाहिए
सारगर्भित
और छोटी !
जैसे कि
पहलवान की लंगोटी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *