पीताभ किरन-पंछी / भवानीप्रसाद मिश्र

दूसरे सारे पंछी
अपने सारे गीत
गा चुके हैं

रक्त और नील
सारे फूल
मेरे आँगन में आ चुके हैं

सुनाई नहीं दी
एक तुम्हारी ही बोली
ओ पीताभ किरण पंछी

ओ ठीक कविता की सहोदरा
फूल और गीत और धरा
सब जैसे धाराहत हैं इस घटना से

अनुक्षण रत हैं सब
तुम्हारी
प्रतीक्षा में !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *