नाव बनाओ / हरिकृष्णदास गुप्त ‘हरि’

नाव बनाओ, नाव बनाओ,
भैया मेरे जल्दी आओ।

वह देखो पानी आया है,
घिर-घिरकर बादल छाया है,
सात समंदर भर लाया है,
तुम रस का सागर भर लाओ।

पानी सचमुच खूब पड़ेगा,
लंबी-चौड़ी गली भरेगा,
लाकर घर में नदी धरेगा,
ऐसे में तुम भी लहरओ।

ले आओ कागज़ चमकीला,
लाल-हरा या नीला-पीला,
रंग-बिरंगा खूब रंगीला,
कैंची, चुटकी हाथ चलाओ।

नाव बनाकर बढ़िया-बढ़िया,
बैठाओ फिर गुड्डे-गुड़िया,
चप्पू थामे नानी बुढ़िया,
बहती गंगा चाल दिखाओ!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *