क्यों टेरा / भवानीप्रसाद मिश्र

मेरा लहरों पर डेरा
तुमने तट से मुझे
धरती पर क्यों टेरा

दो मुझे अब मुझे
वहाँ भी वैसी
उथल-पुथल की ज़िन्दगी

आदत जो हो गई है
डूबने उतराने की
तूफ़ानों में गाने की

लाओ धरो मेरे सामने
वैसी उथल-पुथल की ज़िन्दगी
और तब कहो आओ

मेरा लहरों पर डेरा
तुमने मुझे तट से
धरती पर क्यों टेरा !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *