कविता सुनाई पानी ने-5 / नंदकिशोर आचार्य

भरी है गोद धरती की
झरे पत्तों के दुख से :
उसी टीस का उठना है टेसू
जंगल को लपट-सा करता ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *