इदं न मम / भवानीप्रसाद मिश्र

बड़ी मुश्किल से
उठ पाता है कोई
मामूली-सा भी दर्द

इसलिए
जब यह
बड़ा दर्द आया है

तो मानता हूँ
कुछ नहीं है
इसमें मेरा !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *