आज सौदाए मोहब्बत की ये अर्ज़ानी है / हेंसन रेहानी

आज सौदाए मोहब्बत की ये अर्ज़ानी है
काम बे-कार जवानों का ग़ज़ल-ख़्वानी है

ग़म की तकमील का सामान हुआ है पैदा
लाइक़-ए-फख़्र मेरी बे-सर-ओ-सामानी है

संग ओ आहन तो बनने आईने उन की ख़ातिर
दिल न आईना बना सख़्त ये हैरानी है

मुझे से इस दर्जा ख़फ़ा क्यूँ हो कोई पर्दा-नशीं
आरज़ू दीद की जब फ़ितरत-ए-इंसानी है

फ़ैसला दिल का मोहब्बत में है रब-बर अपना
फ़िक्र किया मंज़िल-ए-जानाँ अगर अन-जानी है

वो करें या न करें अपनी जफ़ा से तौबा
मेरे दिल को मगर एहसास-ए-पशेमानी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *