Yamuna Prasad Chaturvedi ‘Preetam’ Archive

श्री सरस्वती वन्दना / यमुना प्रसाद चतुर्वेदी ‘प्रीतम’

बिपति बिदारीबे की, कुमति निबारबे की, सुरति सँभारबे की, जाकी परी बान है। सुजस दिबाइबे की, सु-रस पिबाइबे की, सरस बनाइबे की अदभुत आन है। भाबना बढ़ाइबे की, भाउ बिकसाइबे की, सुख सरसाइबे की रुचि-सुचि सान है। ‘प्रीतम’ सुजान जान …

श्री गणेश वन्दना / यमुना प्रसाद चतुर्वेदी ‘प्रीतम’

बिघन बिदारबे कौ, सगुन सुधारीबे कौ, अघन उधारिबे कौ जाकौ नित्य काम है। मोद के मनाइबे कौ, मोदक के खाइबे कौ, सोध के सुझाइबे कौ, गुन अभिराम है। विद्या-बुद्धि, ऋद्धि-सिद्धि, भक्ति-मुक्ति दैवे ही कौ, परिगौ सुभाव सदा ललित ललाम है। …

श्री गुरु पद नख वन्दना/ यमुना प्रसाद चतुर्वेदी ‘प्रीतम’

सोभित सलौने सुभ्र सरस सुधा सों सने, सील सिंधु रूप लसें जिन सम चन्द ना। कैधों रवि प्रभा पुंज कुंज सेज लोभें मंजु, हिय लौ प्रकासें भासें राखें मति मन्द ना। जप तप जोग जाग जुरि कें समाने किधौं, जिन्हें …