Waheed Akhtar Archive

जिस को माना था ख़ुदा ख़ाक का पैकर निकला / ‘वहीद’ अख़्तर

जिस को माना था ख़ुदा ख़ाक का पैकर निकला हाथ आया जो यक़ीं वहम सरासर निकला इक सफ़र दश्‍त-ए-ख़राबी से सराबों तक है आँख खोली तो जहाँ ख़्वाब का मंज़र निकला कल जहाँ जुल्म ने काटी थीं सरों की फसलें …

दीवानों का मंज़िल का पता याद नहीं है / ‘वहीद’ अख़्तर

दीवानों का मंज़िल का पता याद नहीं है जब से तिरा नक़्श-ए-कफ़-ए-पा याद नहीं है अफ़सुर्दगी-ए-इश्‍क के खुलते नहीं असबाब क्या बात भुला बैठे हैं क्या याद नहीं है हम दिल-ए-ज़दगाँ जीते हैं यादों के सहारे हाँ मिट गए जिस …