Wahab Danish Archive

पस्पाई / वहाब दानिश

पाँच दस का छोटा कमरा दो दरवाज़े एक में गंदा पर्दा दूजे में वो भी नहीं बंद खिड़की पैवंद-ज़दा मच्छर-दानी डोलता पलंग बैठो तो तहतुस-सुरा हिल जाए एक औरत आलम-ए-सुपुर्दगी में पाँच दस के नोट खूँटी पे टंगा ओवरकोट लाम …

इब्राहीम दीदा / वहाब दानिश

मुख़ातिब आसमाँ है या ज़मीं मालूम कर लेना कि दोनों के लिए तश्बीब के मिसरे अलग से हैं कहीं ऐसा न हो कि आसमाँ बद-ज़न ज़मीं नाराज़ हो जाए क़सीदे में गुरेज़-ए-ना-रवा का मोड़ आ जाए तिरे सर पे कोई …