Trinetra Joshi Archive

भीतर-बाहर / त्रिनेत्र जोशी

मैं हरियाली के भीतर हूँ बाहर एक हरियाली है लताओं से सीखा है हर हाल में झूमना मुसीबतों में उन्हें बाकायदा झुकते भी देखा है उनके हिलने-डुलने में भीतर भी हिलते हैं कुछ पेड़ इस रंग में एक तृप्ति है …

गर्मियाँ / त्रिनेत्र जोशी

गुमसुम से इस मौसम में जब नहीं आती हवाएँ सूखे होंठों वाली पत्तियाँ बार-बार चोंचें खोलती चिड़ियाएँ हरियाली पर लगी फफूँद कोई भी नहीं आता खिड़कियों के सामने पंख फड़फड़ाता उदास गुज़र जाती हैं लड़कियाँ और टहनियाँ खींचती हैं साँसें …