trilok mahawar Archive

माँ / त्रिलोक महावर

कमर झुक गई माँ बूढ़ी हो गई प्यार वैसा ही है याद है कैसे रोया बचपन में सुबक-सुबक कर माँ ने पोंछे आँसू खुरदरी हथेलियों से कहानी सुनाते-सुनाते चुपड़ा ढेर सारा प्यार गालों पर सुबह-सुबह रोटी पर रखा ताजा मक्खन …

बस्ता / त्रिलोक महावर

बस्ता बहुत भारी था ढोते-ढोते एक महीने में बेटी का वज़न घट गया इंग्लिश स्कूल के स्टैंडर्ड फर्स्ट में पढ़ते-पढ़ते दो बार लगाई गई मेरी पेशियाँ मास्टर जी परेशान मेरी बेटी क्यों नहीं करती फॉलो आख़िरकार तय कर ही लिया …