Trilochan Archive

असमंजस / त्रिलोचन

मेरे ओ, आज मैं ने अपने हृदय से यह पूछा था क्या मैं तुम्हें प्यार करती हूँ प्रश्न ही विचित्र था हृदय को जाने कैसा लगा, उस ने भी पूछा भई, प्यार किसे कहते हैं बातों में उलझने से तत्त्व …

कर्म की भाषा / त्रिलोचन

रात ढली, ढुलका बिछौने पर, प्रश्न किसी ने किया, तू ने काम क्या किया नींद पास आ गई थी देखा कोई और है लौट गई मैं ने कहा, भाई, तुम कौन हो. आओ। बैठो। सुनो। विजन में जैसे व्यर्थ किसी …