Shrikant Joshi Archive

मेघ-गीत / श्रीकान्त जोशी

पहली बरखा का सौंधापन महक उठा मेरा वातायन। सूने आकाशों को छूकर ख़ाली-ख़ाली लौटी आँखें अब पूरे बादल भरती है जामुनिया जिनकी पोशाकें कैसे तोड़ रही है धरती अपने से अपना अनुशासन! ऋतुओं की ऋतु आने पर कौन नहीं जो …

एक गीत मेरा भी गा दो / श्रीकान्त जोशी

एक गीत मेरा भी गा दो। स्वर की गलियों के बंजारे मेरे छंद करो उजियारे किरन-किरन में बाँध लुटा दो। एक गीत मेरा भी गा दो। स्वर बाला के राजदुलारे उठा गीत-नग नेक चुरा रे स्वर की सुषमा से चमका …