Laxmikant Verma Archive

नव्य न्याय का अनुशासन-2 / लक्ष्मीकांत वर्मा

तुम गुलाब की क्यारियों में आग लगना चाहते हो लगा दो : किन्तु गुलाब की सुगन्ध बचा लो तुम हरी-भरी लताओं को लपटों में बदलना चाहते हो बदल दो : किन्तु हरियाली मन में बसा लो तुम प्रतिमाएँ तोड़ना चाहते …

नव्य न्याय का अनुशासन-1 / लक्ष्मीकांत वर्मा

तुम्हारे इर्द-गिर्द फैलती अफ़वाहों से मैं नहीं घबराता तुम्हारे आक्रोश, क्रोध और आदेश से भी मैं नहीं डरता जब तुम चीख़ते-चिल्लाते, शोर मचाते हो मैं तुम्हें आश्चर्य से नहीं देखता, क़िताबों को फाड़कर जब तुम होली जलाते हो हर हरियाली …