Hasan Abbas Raza Archive

हम परियों के चाहने वाले ख़्वाब में देखें परियाँ / हसन अब्बास रजा

हम परियों के चाहने वाले ख़्वाब में देखें परियाँ दूर से स्प का सदक़ा बाँटें हाथ न आएँ परियाँ राह में हाएल क़ाफ़-पहाड़ और हाथ चराग़ से ख़ाली क्यूँकर जुनूँ-चंगुल से हम छुड़वाएँ परियाँ आशाओं की सोहनी सहरी सच सजाए …

दुश्मन को ज़द पर आ जाने दो दुश्ना मिल जाएगा / हसन अब्बास रजा

दुश्मन को ज़द पर आ जाने दो दुश्ना मिल जाएगा ज़िंदानों को तोड़ निकलने का रस्ता मिल जाएगा शाह-सवार के कट जाने का दुख तो हमें भी है लेकिन तुम परचम थामे रखना सालार-सिप्पा मिल जाएगा हमें ख़बर थी शहर-ए-पनाह …