Bashir Farooqi Archive

लोगों हम छान चुके जा के संमुदर सारे / बशीर फ़ारूक़ी

लोगों हम छान चुके जा के संमुदर सारे उस ने मुट्ठी में छुपा रक्खे हैं गौहर सारे ज़ख़्म-ए-दिल जाग उठे फिर वही दिन यार आए फिर तसव्वुर पे उभर आए वो मंज़र सारे तिश्नगी मेरी अजब रेत का मंज़र निकली …

अब के जुनूँ में लज़्ज़त-ए-आज़ार भी नहीं / बशीर फ़ारूक़ी

अब के जुनूँ में लज़्ज़त-ए-आज़ार भी नहीं ज़ख़्म-ए-जिगर में सुर्ख़ी-ए-रूख़सार भी नहीं हम तेरे पास आ के परेशान हैं बहुत हम तुझ से दूर रहने को तय्यार भी नहीं ये हुक्म है कि सौंप दो नज़्म-ए-चमन उन्हें नज़्म-ए-चमन से जिन …