Zafar Moradabadi Archive

बे-क़नाअत काफ़िले हिर्स ओ हवा ओढ़े हुए / ‘ज़फ़र’ मुरादाबादी

बे-क़नाअत काफ़िले हिर्स ओ हवा ओढ़े हुए मंज़िलें भी क्यूँ न हों फिर फ़ासला ओढ़े हुए इस क़दर ख़िल्क़त मगर है मौत को फ़ुर्सत बहुत हर बशर है आज ख़ु अपनी क़जा़ ओढ़े हुए उन के बातिन में मिला शैतान …

बढ़े कुछ और किसी इल्तिजा से कम न हुए / ‘ज़फ़र’ मुरादाबादी

बढ़े कुछ और किसी इल्तिजा से कम न हुए मेरी हरीफ़ तुम्हारी दुआ से कम न हुए सियाह रात में दिल के मुहीब सन्नाटे ख़रोश-ए-नग़मा-ए-शोला-नवा से कम न हुए वतन को छोड़ के हिजरत भी किस को रास आई मसाएल …