Wamiq Jaunpuri Archive

हो रही है दर-ब-दर ऐसी जबीं-साई कि बस / ‘वामिक़’ जौनपुरी

हो रही है दर-ब-दर ऐसी जबीं-साई कि बस क्या अभी बाक़ी है कोई और रूसवाई कि बस आश्ना राहें भी होती जा रही हैं अजनबी इस तरह जाती रही आँखों से बीनाई कि बस तो सहर करते रहे हम इंतिज़ार-ए-मेहर-ए-नौ …

अभी तो हौसला-ए-कारोबार बाक़ी है / ‘वामिक़’ जौनपुरी

अभी तो हौसला-ए-कारोबार बाक़ी है ये कम कि आमद-ए-फ़स्ल-ए-बहार बाक़ी है अभी तो शहर के खण्डरों में झाँकना है मुझे ये देखना भी तो है कोई यार बाक़ी है अभी तो काँटों भरे दश्त की करो बातें अभी तो जैब …