Wajid Archive

पद / वाजिद

कहियो जाय सलाम हमारी राम कूँ। नैण रहे झड लाय तुम्हारे नाम कूँ॥ कमल गया कुमलाय कल्याँ भी जायसी। हरि हाँ, ‘वाजिद’, इस बाडी में बहुरि न भँवरा आयसी॥ चटक चाँदणी रात बिछाया ढोलिया। भर भादव की रैण पपीहा बोलिया॥ …