Shambhu Nath Shesh Archive

फूल और शूल / शंभूनाथ शेष

एक दिन जो बाग में जाना हुआ, दूर से ही महकती आई हवा! खिल रहे थे फूल रँगा-रंग के- केसरी थे और गुलाबी थे कहीं, चंपई की बात कुछ पूछो नहीं! खिल रहा था फूल एक गुलाब का, देख जिसको …