Santosh Anand Archive

इक प्यार का नग़मा है / संतोषानन्द

इक प्यार का नग़मा है, मौज़ों की रवानी है ज़िन्दगी और कुछ भी नही,तेरी मेरी कहानी है… कुछ पा कर खोना है, कुछ खो कर पाना है जीवन का मतलब तो ,आना और जाना है दो पल के जीवन से …

ओ मेघा रे, मेघा रे / संतोषानन्द

ओ मेघा रे, मेघा रे ओ मेघा रे, मेघा रे मत परदेस जा रे आज तू प्रेम का संदेश बरसा रे | मेरे गम की तू दवा दे आज तू प्रेम का संदेश बरसा रे | चलो और दुनिया बसाएँगे …