Sant Kumar Tandon ‘Rasik’ Archive

डाक टिकट / संत कुमार टंडन ‘रसिक’

मैं हूँ भइया डाक-टिकट, मुझे न कोई राह विकट। डाकघरों में सहे प्रहार, फिर भी कभी न मानी हार। जहाँ कहो मैं चल देता हूँ, सभी जगह तो रह लेता हूँ। लक्ष्य जहाँ का भी ठहराओ, वहीं सदा तुम मुझको …

अन्नू का तोता / संत कुमार टंडन ‘रसिक’

‘बाबा, बाबा’ बोला पोता, ‘लाल, दुलारे तू क्यों रोता?’ ‘ला दो पिंजला, ला दो तोता बला नहीं, बछ छोता-छोता।’ अन्नू जी ने गाना छोड़ा, अन्नू जी ने खाना छोड़ा, बाबा साहब से की कुट्टी दादा से भी हो गई छुट्टी। …