Pajnes Archive

दुंहु ओर से फाग मड़ी उमड़ी / पजनेस

दुँहु ओर से फाग मड़ी उमड़ी जहँ श्री चढ़ि भीर ते भीर भिरी । कुच कँचुकी कोर छुये घरकै पजनेस फँदी फरकै ज्योँ चिरी । धधकी दै गुलाल की घूँघुरि मेँ धरी गोरी लला मुख मीढ़ी सिरी । उझकै झँपै …