Laxmi Narayan Sudhakar Archive

सदियों से शोषित-प्रताड़ित दलित जन / लक्ष्मी नारायण सुधाकर

सदियों से शोषित-प्रताड़ित दलित जन दासता की बेड़ियों में बँधे बिलखाते थे अस्पृश्य-अन्त्यज्य-अधर्म, धर्म-शास्त्र कहें अधिकार-वंचित से विवश अकुलाते थे विद्या से विहीन धनहीन दीन पंगु बने पशुओं के तुल्य द्विज उनको सताते थे ‘सुधाकर’ आम्बेडकर बाबा ने जगाया उन्हें …

जहाँ तक सवाल है / लक्ष्मी नारायण सुधाकर

जहाँ तक सवाल है शोषितों के हाल का फँसे हुए सदियों से शोषकों के जाल में निगल न पाये पर छोड़ भी तो नहीं रहे पिसे जा रहे हैं क्रूर काल ही के गाल में ऊँच-नीच, छूट-छात, जाति-पात कीच-बीच वारि …