Keshavdas Archive

रितु ग्रीषम की प्रति बासर केशव, खेलत हैं जमुना-जल में / केशव.

रितु ग्रीषम की प्रति बासर ’केसब’ खेलत हैं जमुना जल में । इत गोप-सुता, उहिं पार गोपाल, बिराजत गोपन के गल में ॥ अति बूढ़ति हैं गति मीनन की, मिलि जाय उठें अपने थल में । इहिं भाँति मनोरथ पूरि …

पवन चक्र परचंड चलत, चहुँ ओर चपल गति / केशव.

पवन चक्र परचंड चलत, चहुँ ओर चपल गति । भवन भामिनी तजत, भ्रमत मानहुँ तिनकी मति ॥ संन्यासी इहि मास होत, एक आसन बासी । पुरुषन की को कहै, भए पच्छियौ निवासी ॥ इहि समय सेज सोबन लियौ, श्रीहिं साथ …

जौँ हौँ कहौँ रहिये तो प्रभुता प्रगट होत / केशव.

जौँ हौँ कहौँ रहिये तो प्रभुता प्रगट होत, चलन कहौँ तौ हित हानि नाहीँ सहनो। भावै सो करहु तौ उदास भाव प्राण नाथ, साथ लै चलहु कैसो लोक लाज बहनो। केशोदास की सोँ तुम सुनहु छबीले लाल, चले ही बनत …

मैन ऎसो मन मृदु मृदुल मृणालिका के / केशव.

मैन ऎसो मन मृदु मृदुल मृणालिका के, सूत कैसो सुर ध्वनि मननि हरति है। दारयोँ कैसो बीज दाँत पाँत से अरुण ओँठ, केशोदास देखि दृग आनँद भरति है। येरी मेरी तेरी मोँहिँ भावत भलाई तातेँ, बूझति हौँ तोहिँ और बूझति …

सोने की एक लता तुलसी बन क्योँ बरनोँ सुनि बुद्धि सकै छ्वै / केशव.

सोने की एक लता तुलसी बन क्योँ बरनोँ सुनि बुद्धि सकै छ्वै । केशव दास मनोज मनोहर ताहि फले फल श्री फल से द्वै । फूलि सरोज रह्यो तिन ऊपर रूप निरूपन चित्त चले चवै । तापर एक सुवा शुभ …

कैधौँ कली बेला की चमेली सी चमक पर / केशव.

कैधौँ कली बेला की चमेली सी चमक परै , कैधौं कीर कमल मे दाड़िम दुराए हैँ । कैधौँ मुकताहल महावर मे राखे रँगि , कैधौं मणि मुकुर मे सीकर सुहाए हैँ । कैधौं सातौँ मंडल के मंडल मयंक मध्य , …

नैनन के तारन मै राखौ प्यारे पूतरी कै / केशव.

नैनन के तारन मै राखौ प्यारे पूतरी कै, मुरली ज्योँ लाय राखौं दसन बसन मैं। राखौ भुज बीच बनमाली बनमाला करि, चंदन ज्योँ चतुर चढ़ाय राखौं तन मैँ। केसोराय कल कंठ राखौ बलि कठुला कै, भरमि भरमि क्यों हूँ आनी …

दुरिहै क्यों भूखन बसन दुति जोबन की / केशव.

दुरिहै क्यों भूखन बसन दुति जोबन की , देहहु की जोति होति द्यौस ऎसी राति है । नाहक सुबास लागे ह्वै कैसी केशव , सुभावती की बास भौंर भीर फारे खाति है । देखि तेरी सूरति की मूरति बिसूरति हूँ …

पायन को परिबो अपमान अनेक सोँ केशव मान मनैबो / केशव.

पायन को परिबो अपमान अनेक सोँ केशव मान मनैबो । सीठी तमूर खवाइबो खैबो विशेष चहूँ दिशि चौँकि चितैबो । चीर कुचीलन ऊपर पौढ़िबो पातहु के खरके भगि ऎबो । आँखिन मूँद के सीखत राधिका कुँजन ते प्रति कुँजन जैबो …

एक भूत में होत, भूत भज पंचभूत भ्रम / केशव

एक भूत में होत, भूत भज पंचभूत भ्रम । अनिल-अंबु-आकास, अवनि ह्वै जाति आगि सम ॥ पंथ थकित मद मुकित, सुखित सर सिंधुर जोवत । काकोदर करि कोस, उदरतर केहरि सोवत ॥ पिय प्रबल जीव इहि विधि अबल, सकल विकल …