kanwal dawabi Archive

ये मानता हूँ की ख़ारों को कौन पूछेगा / कँवल डबावी

ये मानता हूँ की ख़ारों को कौन पूछेगा जला चमन तो बहारों को कौन पूछेगा हमारी शाम-ए-अलम तक ही क़द्र है उन की सहर हुई तो सितारों को कौन पूछेगा तबाहियों का मेरे हाल मुंकशिफ़ न करो खुला ये राज़ …

तअज्जुब ये नहीं है ग़म के मारों को न चैन आया / कँवल डबावी

तअज्जुब ये नहीं है ग़म के मारों को न चैन आया तड़पना देख कर मेरा सितारों को न चैन आया बढ़ी बे-ताबी-ए-दिल जब तो बहने ही लगे आँसू मेरे हम-राह इन पिन्हाँ सितारों को न चैन आया रहे गर्दिश में …

नज़र का मिल के टकराना न तुम भूले न हम भूले / कँवल डबावी

नज़र का मिल के टकराना न तुम भूले न हम भूले मोहब्बत का वो अफ़्साना न तुम भूले न हम भूले सताया था हमें कितना ज़माने के तग़य्युर ने ज़माने का बदल जाना न तुम भूले न हम भूले भरी …

न घूम दश्त में तू सहन-ए-गुलिस्ताँ से गुज़र / कँवल डबावी

न घूम दश्त में तू सहन-ए-गुलिस्ताँ से गुज़र जो चाहता है बुलंदी तो कहकशाँ से गुज़र ज़मीं को छोड़ के नादाँ न आसमाँ से गुज़र ज़रूरत इस की है तो उन के आस्ताने से गुज़र इसी से तेरी इबादत पे …

माह ओ अंजुम की रौशनी गुम है / कँवल डबावी

माह ओ अंजुम की रौशनी गुम है क्या हर इक बज़्म से ख़ुशी गुम है चाँद धुँदला है चाँदनी गुम है हुस्न वालों में दिल-कशी गुम है ज़िंदगी गुन न दोस्ती गुम है ये हक़ीक़त है आदमी गुम है इस …

कुछ बुझी बुझी सी है अंजुमन न जाने क्यूँ / कँवल डबावी

कुछ बुझी बुझी सी है अंजुमन न जाने क्यूँ ज़िंदगी में पिन्हाँ है इक चुभन न जाने क्यूँ और भी भुत से हैं लूटने को दुनिया में बन गए हैं रह-बर की राह बन-जान न जाने क्यूँ उन की फ़िक्र-ए-आला …

ग़म का इज़हार भी करने नहीं देती दुनिया / कँवल डबावी

ग़म का इज़हार भी करने नहीं देती दुनिया और मरता हूँ तो मरने नहीं देती दुनिया सब ही मय-ख़ाना-ए-हस्ती से पिया करत हैं मुझ को इक जाम भी भरने नहीं देती दुनिया आस्ताँ पर तेरे हम सर को झुका तो …