Indira Verma Archive

अभी से कैसे कहूँ तुम को बे-वफ़ा साहब / इन्दिरा वर्मा

अभी से कैसे कहूँ तुम को बे-वफ़ा साहब अभी तो अपने सफ़र की है इब्तिदा साहब न जाने कितने लक़ब दे रहा है दिल तुम को हुज़ूर जान-ए-वफ़ा और हम-नवा साहब तुम्हारी याद में तारे शुमार करती हूँ न जाने …

आज फिर चाँद उस ने माँगा है / इन्दिरा वर्मा

आज फिर चाँद उस ने माँगा है चाँद का दाग़ फिर छुपाना है चाँद का हुस्न तो है ला-सानी फिर भी कितना फ़लक पे तन्हा है काश कुछ और माँगता मुझ से चाँद ख़ुद गर्दिशों का मारा है दूर है …