Hafeez Jalandhari Archive

दिल-ए-बे-मुद्दआ है और मैं हूँ / ‘हफ़ीज़’ जालंधरी

दिल-ए-बे-मुद्दआ है और मैं हूँ मगर लब पर दुआ है और मैं हूँ न साक़ी है न अब वो शय है बाकी मिरा दौर आ गया है और मैं हूँ उधर दुनिया है और दुनिया के बंदे इधर मेरा ख़ुदा …

दिल अभी तक जवान है प्यारे / ‘हफ़ीज़’ जालंधरी

दिल अभी तक जवान है प्यारे किसी मुसीबत में जान है प्यारे तू मिरे हाल का ख़याल न कर इस में भी एक शान है प्यारे तल्ख़ कर दी है ज़िंदगी जिस ने कितनी मीठी है ज़बान है प्यारे वक़्त …

अगर मौज है बीच धारे चला चल / ‘हफ़ीज़’ जालंधरी

अगर मौज है बीच धारे चला चल वगरना किनारे किनारे चला चल इसी चाल से मेरे प्यारे चला चल गुज़रती है जैसे गुज़ारे चला चल तुझे साथ देना है बहरूपियों का नए से नया रूप धारे चला चल ख़ुदा को …

अब तो कुछ और भी अँधेरा है / ‘हफ़ीज़’ जालंधरी

अब तो कुछ और भी अँधेरा है ये मिरी रात का सवेरा है रह-ज़नों से तो भाग निकला था अब मुझे रह-बरों ने घेरा है आगे आगे चलो तबर वालो अभी जंगल बहुत घनेरा है क़ाफ़िला किस की पैरवी में …

आ ही गया वो मुझ को लहद में उतारने / ‘हफ़ीज़’ जालंधरी

आ ही गया वो मुझ को लहद में उतारने ग़फ़लत ज़रा न की मिरे ग़फ़लत-शेआर ने ओ बे-नसीब दिन के तसव्वुर ये ख़ुश न हो चोला बदल लिया है शब-ए-इंतिज़ार ने अब तक असीर-ए-दाम-ए-फ़रेब-ए-हयात हूँ मुझ को भुला दिया मिरे …