Akshay Upadhyay Archive

तानाशाह जब ही आता है / अक्षय उपाध्याय

तानाशाह जब भी आता है उसके साथ दुनिया की ख़ूबसूरत असंख्य चीज़ें होती हैं वह उन्हें दिखाता है जिनके पास सजाने के लिए कमरे हैं वे दौड़ते हैं तानाशाह जब भी आता है उसके साथ धर्म और जाति और ईश्वर …

नेता (दो) / अक्षय उपाध्याय

अच्छा बेटा तू इतना अकड़ता है संतरी को मंत्री होने पर रगड़ता है फूँक मारते ही तू फूलेगा फूलेगा तू और एक ही दिन में पचास वर्षों की कमी छू लेगा कभी यहाँ कभी वहाँ मौसम के झूले पे झूलेगा …

नेता (एक) / अक्षय उपाध्याय

मसान से फैले प्रदेश में मचान गाड़ नेता अब और बेतुकी नहीं हाँक पा रहे अब तो पिपरिया के, छोटके के पूछे गए ककहरा सवालों के जवाब में भी गाँधी टोपी भकुआ की तरह बबूर की ओर मुँह किए दाँत …

चिड़िया (दो) / अक्षय उपाध्याय

वे नहीं जानते कैसे छोटी चिड़िया बड़े पंखों से उड़ान भरती है और आकाश में एक कोलाहल पैदा करती है चिड़िया जब भी गीत गाते हुए लंबे सफ़र पर होती है यो उसके साथ पूरी पृथ्वी का शोर और प्रेम …

चिड़िया (एक) / अक्षय उपाध्याय

चिड़िया कहाँ जाती है आसमान में कहाँ जाती है वह दाने के लिए दाना कहाँ है किसका है पूछता है चूजा चिड़िया लौट आती है चुपचाप घोंसला किसका है घोंसले में अण्डे कौन देगा कौन पर निकालते हुए सेंकेगा अपनी …

रात / अक्षय उपाध्याय

नींद में लौटने के लिए स्त्री अपनी दुनिया को समेटती है रात स्त्री की आँखों पर उतरती है बच्चा दौड़ता चला जाता है अपने स्वप्नों के बीच रात उसकी इच्छा को बघारती है रात को सीने में सहेजती युवती गौने …

धान रोपती स्त्री / अक्षय उपाध्याय

क्यों नहीं गाती तुम गीत हमारे क्यों नहीं तुम गाती बजता है संगीत तुम्हारे पूरे शरीर से आँखें नाचती हैं पृथ्वी का सबसे ख़ूबसूरत नृत्य फिर झील-सी आँखो में सेवार क्यों नहीं उभरते एक नहीं कई-कई हाथ सहेजते हैं तुम्हारी …

इस मौसम में / अक्षय उपाध्याय

यह मौसम है फूलों का और बग़ीचे में चलती हैं बन्दूकें कहाँ हैं वे चिड़ियाएँ जो घोंसलों के लिए खर लिए बदहवास भागती हैं आसमान में ! यह मौसम है गाने क और मेरे घर में भूख नाचती है कहाँ …

पढ़ता हुआ बच्चा (दो) / अक्षय उपाध्याय

गिटार बजाती माँ का मन भी गिटार जैसा ही बजता है ? क़िताबों से घिरा बच्चा सोचता है । क़िताबों से गिटार बड़ा है माँ के कानों में हर बार कहने से पहले बच्चा खिलखिलाता है और संगीत की दुनिया …

पढ़ता हुआ बच्चा (एक) / अक्षय उपाध्याय

बच्चे के बस्ते पर किताबें हैं और उसके खेल का तमंचा भी बच्चा भीतर के क़िताबी भय को तमंचे से उठाने के लिए ऊपर देखाता है पिता के सच को माँ की आँखों में झूठ बना देखता है बच्चा और …