Akhtar Sheerani Archive

ओ देस से आने वाले बता! / ‘अख्तर’ शीरानी

ओ देस से आने वाले बता! क्‍या अब भी वहां के बाग़ों में मस्‍ताना हवाएँ आती हैं? क्‍या अब भी वहां के परबत पर घनघोर घटाएँ छाती हैं? क्‍या अब भी वहां की बरखाएँ वैसे ही दिलों को भाती हैं? …

यारो कू-ए-यार की बातें करें / ‘अख्तर’ शीरानी

यारो कू-ए-यार की बातें करें फिर गुल ओ गुल-ज़ार की बातें करें चाँदनी में ऐ दिल इक इक फूल से अपने गुल-रुख़्सार की बातें करें आँखों आँखों में लुटाए मै-कदे दीदा-ए-सरशार की बातें करें अब तो मिलिए बस लड़ाई हो …

वो कभी मिल जाएँ तो / ‘अख्तर’ शीरानी

वो कभी मिल जाएँ तो क्या कीजिए रात दिन सूरत को देखा कीजिए चाँदनी रातों में इक इक फूल को बे-ख़ुदी कहती है सजदा कीजिए जो तमन्ना बर न आए उम्र भर उम्र भर उस की तमन्ना कीजिए इश्क़ की …

वादा उस माह-रू के आने का / ‘अख्तर’ शीरानी

वादा उस माह-रू के आने का ये नसीबा सियाह-ख़ाने का कह रही है निगाह-ए-दुज़-दीदा रुख़ बदलने को है ज़माने का ज़र्रे ज़र्रे में बे-हिजाब हैं वो जिन को दावा है मुँह छुपाने का हासिल-ए-उम्र है शबाब मगर इक यही वक़्त …

कुछ तो तंहाई की रातों में / ‘अख्तर’ शीरानी

कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता तुम न होते न सही ज़िक्र तुम्हारा होता तर्क-ए-दुनिया का ये दावा है फ़ुज़ूल ऐ ज़ाहिद बार-ए-हस्ती तो ज़रा सर से उतारा होता वो अगर आ न सके मौत ही आई होती …

किस को देखा है ये हुआ क्या है / ‘अख्तर’ शीरानी

किस को देखा है ये हुआ क्या है दिल धड़कता है माजरा क्या है इक मोहब्बत थी मिट चुकी या रब तेरी दुनिया में अब धरा क्या है दिल में लेता है चुटकियाँ कोई है इस दर्द की दवा क्या …

झूम कर बदली उठी और छा गई / ‘अख्तर’ शीरानी

झूम कर बदली उठी और छा गई सारी दुनिया पर जवानी आ गई आह वो उस की निगाह-ए-मय-फ़रोश जब भी उट्ठी मस्तियाँ बरसा गई गेसू-ए-मुश्कीं में वो रू-ए-हसीं अब्र में बिजली सी इक लहरा गई आलम-ए-मस्ती की तौबा अल-अमाँ पारसाई …

ऐ दिल वो आशिक़ी के / ‘अख्तर’ शीरानी

ऐ दिल वो आशिक़ी के फ़साने किधर गए वो उम्र क्या हुई वो ज़माने किधर गए वीराँ हैं सहन-ओ-बाग़ बहारों को क्या हुआ वो बुलबुलें कहाँ वो तराने किधर गए है नज्द में सुकूत हवाओं को क्या हुआ लैलाएँ हैं …