Farhat Kanpuri Archive

जो कुछ भी है नज़र में सो वहम-ए-नुमूद है / फ़रहत कानपुरी

जो कुछ भी है नज़र में सो वहम-ए-नुमूद है आलम तमाम एक तिलिस्म-ए-वजूद है आराइश-ए-नुमूद से बज़्म-ए-जुमूद है मेरी जबीन-ए-शौक़ दलील-ए-सुजूद है हस्ती का राज़ क्या है ग़म-ए-हस्त-ओ-बूद है आलम तमाम दाम-ए-रूसूम-ओ-क़ुयूद है अक्स-ए-जमाल-ए-यार से वहम-ए-नुमूद है वर्ना वजूद-ए-ख़ल्क भी …

आँखों में बसे हो तुम आँखों में अयाँ हो कर / फ़रहत कानपुरी

आँखों में बसे हो तुम आँखों में अयाँ हो कर दिल ही मे न रह जाओ आँखों से निहाँ हो कर हाँ लब पे भी आ जाओ अंदाज़-ए-बयाँ हो कर आँखों में भी आ जाओ अब दिल की ज़बाँ हो …