संगाती / भवानीप्रसाद मिश्र

नहीं
रामचरण नहीं था
न मदन था न रामस्वरूप

कोई और था
उस दिन
मेरे साथ

जिसने
सतपुड़ा के जंगलों में
भूख की शिकायत की न प्यास की

जिसने न छाँह ताकी
न पूछा कितना बाक़ी है अभी
ठहरने का ठिकाना और

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *