ममेदम / भवानीप्रसाद मिश्र

मेरे चलने से
हुए हो तुम
पथ

और
रथ हुए हो तुम
मेरे रथी होने से

रात बनोगे तुम
मेरे सोने से
और प्रभात मेरे जागने से !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *