बे-सबब हम से जुदाई न करो / ‘फ़ायज़’ देहलवी

बे-सबब हम से जुदाई न करो
मुझ से आशिक़ से बुराई न करो

ख़ाक-साराँ को न करिए पामाल
जग में फ़िरऔन सी ख़ुदाई न करो

बे-गुनाहाँ कूँ न कर डालो क़त्ल
आह कूँ तीर-ए-हवाई न करो

एक दिल तुम से नहीं है राज़ी
जग में हर इक सूँ बुराई न करो

महव है ‘फाएज़’-ए-शैदा तुम पर
उस से हर लहज़ा बखाई न करो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *