बयाबां और बस्ती / उज्ज्वल भट्टाचार्य

मैंने सुना था
बयाबां की सरहद पर
शुरू होती है बस्ती
जहां मिलते हैं
अपने भी.

मैंने बस्ती देखी
और लेौट चला बयाबां की ओर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *