पूर्णमदः / भवानीप्रसाद मिश्र

हर बदल रहा आकार
मेरी अंजुलि में
आना चाहिए

विराट हुआ करे कोई
उसे मेरी इच्छा में
समाना चाहिए !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *