पानी में पौर अगन नाचे / हंसकुमार तिवारी

सावन चहुँ ओर सघन नाचे
चंचल मनमोर मगन नाचे।

सन-सन की बीन बजे मेघों का मांदर
झम-झम की झांझ और रिमझिम का झांझर
चपला चितचोर नयन नाचे।
सावन चहुँ ओर सघन नाचे

खेतों में धान हँसे बागों में कलियाँ
तरुओं की रानी की वन-वन रंगरलियाँ
यौवन मदभोर भुवन नाचे।
सावन चहुँ ओर सघन नाचे

कानन के हाथ बँधी लत्तर की राखी
जाने न नाम रटे कोई बन पाँखी
पानी में पौर अगन नाचे।
सावन चहुँ ओर सघन नाचे

फूलों पर तितली का रंग रंगा डैना
नाचती सुहागिन ज्यों देख-देख ऐना
आँखों की कोर गगन नाचे।
सावन चहुँ ओर सघन नाचे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *