टिली लिली / श्रीकृष्णचंद्र तिवारी ‘राष्ट्रबंधु’

मैं ढपोर हूँ शंख बिना,
ताक धिना-धिन, ताक धिना।

मुझे अचानक परी मिली,
आसमान में जुही खिली।
टिली लिली जी टिली लिली
मैं जाऊँगा पंख बिना
ताक धिना धिन, ताक धिना!

अगड़म-बगड़म बंबे बो,
अस्सी, नब्बे, पूरे सौ।
गेहूँ बोया, काटा जौ,
उगा पेड़ कब बीज बिना
ताक धिना-धिन, ताक धिना!
बछड़ा भागा, भागी गौ,
जल्दी जागो फटती पौ!
हो-हो, हो-हो, हो, हो, हो,
चलूँ अकेला संग बिना
ताक धिना-धिन ताक धिना!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *