गर्मियाँ शोखियाँ किस शान से हम / वाजिद अली शाह

गर्मियाँ शोख़ियाँ किस शान से हम देखते हैं
क्या ही नादानियाँ नादान से हम देखते हैं

ग़ैर से बोसा-ज़नी और हमें दुश्नामें
मुँह लिए अपना पशेमान से हम देखते हैं

फ़स्ल-ए-गुल अब की जुनूँ-ख़ेज़ नहीं सद-अफ़सोस
दूर हाथ अपना गिरेबान से हम देखते हैं

आज किस शोख़ की गुलशन में हिना-बंदी है
सर्व रक़्साँ हैं गुलिस्तान से हम देखते हैं

‘अख़्तर’-ए-ज़ार भी हो मुसहफ़-ए-रुख़ पर शैदा
फ़ाल ये नेक है कुरआन से हम देखते हैं